Home उत्तराखंड श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की भ्रमणशील जमात चातुर्मास प्रवास पूरा कर...

श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की भ्रमणशील जमात चातुर्मास प्रवास पूरा कर श्री दरबार साहिब से लौटी

  • श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज की अगुवाई में दी गई भावपूर्णं विदाई
  •  पुष्पवर्षा के साथ आचार्य श्रीचंद्र जी भगवान व श्री गुरु राम राय जी महाराज के जयकारे गूंजे

देहरादून। श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की भ्रमणशील जमात दरबार श्री गुरु राम राय जी महाराज में चातुर्मास प्रवास पूर्णं कर शनिवार को वापिस लौट गई। यह जमात देश भर का भ्रमण कर सनातन धर्म संस्कृति का प्रचार प्रसार करती है। उदासीन भेष संरक्षण समिति के अध्यक्ष व श्री दरबार साहिब के श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज की अगुआई में साधु-संत-महंतों को श्रद्धापूर्वक भावपूर्णं विदाई दी गई। श्री दरबार साहिब प्रबन्ध समिति की ओर से पारपंरिक रीति रिवाजों का निर्वहन किया गया। आचार्य श्रीचंद्र जी भगवान व श्री गुरु राम राय जी महाराज के जयकारों के बीच साधु-संत महंत भावि विभोर दिखाई दिए।
श्री दरबार साहिब प्रबन्ध समिति के सह व्यवस्थापक विजय गुलाटी ने जानकारी दी कि कोविड गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए सूक्ष्म विदाई समारोह का आयोजन किया गया। काबिलेगौर है कि सनातम धर्म की परंपरा के अनुपालन में हर कुंभ आयोजन के बाद श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के तपस्वी संत-महंतों की भ्रमणशील जमात श्री दरबार साहिब देहरादून पहुंचती है व श्री दरबार साहिब में चातुर्मास प्रवास के लिए ठहरते हैं। श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की चार धुंए पूर्व-पश्चिम-उत्तर-दक्षिण हैं। इनके चार श्रीमहंत होते हैं। श्रीमहंत रघुमुनि जी महाराज, श्रीमहंत उमेश्वर दास जी महाराज, श्रीमहंत दुर्गादास जी महाराज व श्रीमहंत अदित्यानंद जी महाराज की अगुवाई में साधु संत-महंतों का यह प्रतिनिधिमण्डल चैमासा प्रवास के लिए श्री दरबार साहिब में प्रवास पर रहा। चैमासा प्रवास को तपस्वी संतो का चलता फिरता तीर्थ माना जाता है। वैदिक परंपरा के अनुसार श्री दरबार साहिब प्रवास के दौरान उनके द्वारा विशेष पूजन, ध्यान व वैदिक परंपराओं का निर्वहन किया गया। अपने प्रवास के दौरान उन्होंने आचार्य श्री चंद्र जी भगवान व श्री गुरु राम राय महाराज की विशेष पूजा अर्चना अरदास व अनुष्ठान किये, देश में सुख शांति व समृद्धि की कामना की व कोरोना मुक्त देश-दुनिया की कामना करते हुए विशेष पूजन हवन आयोजित किये। कर्मकांड, पूजन, आराधना के अलावा माह में पड़ने वाली विशेष तिथियों पर विशेष धार्मिक अनुष्ठान किये।
उदासीन भेष संरक्षण समिति के अध्यक्ष व श्री दरबार साहिब के श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने कहा कि कुंभ आयोजन के बाद उदासीन समप्रदाय के संतों का पर्दापण श्री दरबार साहिब में होता है, वर्षों से यह परंपरा चली आ रही है। संत परंपरा से ही भारतीय संस्कृति की पहचान है। श्री दरबार साहिब परिवार सौभाग्यशाली है कि उन्हें हर कुंभ आयोजन के बाद साधु-संत-महंतों की सेवा का सौभाग्य प्राप्त होता है। चैमासा प्रवास के दौरान श्री दरबार साहिब में मिले प्रेम-स्नेह-आदर व भक्ति भाव के लिए साधु संतों ने आभार व्यक्त किया व सभी सेवादारों व श्रद्धालुओं की दीर्घायु की कामना करते हुए उन्हें आशीर्वाद दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

मुख्यमंत्री धामी अपने पैतृक गांव हड़खोला पहुंचे, हरी चंद स्वामी मन्दिर में की पूजा-अर्चना

पिथौरागढ़। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज अपने पैतृक गांव हड़खोला पहुंचकर हरी चंद स्वामी मन्दिर में विधि-विधान से पूजा-अर्चना की। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी डा....

सीमांत गुंजी में मुख्यमंत्री ने किया माउन्टेन साइकिल रैली का शुभारंभ

अन्य राज्यों के लोगों को प्रदेश के प्राकृतिक सौन्दर्य एवं संस्कृति को जानने का मिलेगा अवसर राज्य में साहसिक पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा ...

चंबा-धरासू मोटर मार्ग पर सड़क हादसे में मृत सभी छह लोगों की शिनाख्त

नई टिहरी। चंबा-धरासू मोटर मार्ग पर तहसील कंडिसौड़ के कोटी गाड़ के समीप आज दोपहर लगभग साढ़े तीन बजे दुर्घटनाग्रस्त बुलेरो में मृत छह...

Breaking News: पौड़ी के सीईओ का प्राइवेट स्कूलों में छापा, किताबों, बैग और यूनिफार्म से भरा स्टोर सील

कोटद्वार। पौड़ी के मुख्य शिक्षा अधिकारी डॉ0 आनंद भारद्वाज ने आज कोटद्वार क्षेत्र के प्राइवेट स्कूलों का निरीक्षण किया। उन्होंने एक स्कूल का स्टोर...
- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!