Home उत्तराखंड श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की भ्रमणशील जमात चातुर्मास प्रवास पूरा कर...

श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की भ्रमणशील जमात चातुर्मास प्रवास पूरा कर श्री दरबार साहिब से लौटी

  • श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज की अगुवाई में दी गई भावपूर्णं विदाई
  •  पुष्पवर्षा के साथ आचार्य श्रीचंद्र जी भगवान व श्री गुरु राम राय जी महाराज के जयकारे गूंजे

देहरादून। श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की भ्रमणशील जमात दरबार श्री गुरु राम राय जी महाराज में चातुर्मास प्रवास पूर्णं कर शनिवार को वापिस लौट गई। यह जमात देश भर का भ्रमण कर सनातन धर्म संस्कृति का प्रचार प्रसार करती है। उदासीन भेष संरक्षण समिति के अध्यक्ष व श्री दरबार साहिब के श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज की अगुआई में साधु-संत-महंतों को श्रद्धापूर्वक भावपूर्णं विदाई दी गई। श्री दरबार साहिब प्रबन्ध समिति की ओर से पारपंरिक रीति रिवाजों का निर्वहन किया गया। आचार्य श्रीचंद्र जी भगवान व श्री गुरु राम राय जी महाराज के जयकारों के बीच साधु-संत महंत भावि विभोर दिखाई दिए।
श्री दरबार साहिब प्रबन्ध समिति के सह व्यवस्थापक विजय गुलाटी ने जानकारी दी कि कोविड गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए सूक्ष्म विदाई समारोह का आयोजन किया गया। काबिलेगौर है कि सनातम धर्म की परंपरा के अनुपालन में हर कुंभ आयोजन के बाद श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के तपस्वी संत-महंतों की भ्रमणशील जमात श्री दरबार साहिब देहरादून पहुंचती है व श्री दरबार साहिब में चातुर्मास प्रवास के लिए ठहरते हैं। श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन की चार धुंए पूर्व-पश्चिम-उत्तर-दक्षिण हैं। इनके चार श्रीमहंत होते हैं। श्रीमहंत रघुमुनि जी महाराज, श्रीमहंत उमेश्वर दास जी महाराज, श्रीमहंत दुर्गादास जी महाराज व श्रीमहंत अदित्यानंद जी महाराज की अगुवाई में साधु संत-महंतों का यह प्रतिनिधिमण्डल चैमासा प्रवास के लिए श्री दरबार साहिब में प्रवास पर रहा। चैमासा प्रवास को तपस्वी संतो का चलता फिरता तीर्थ माना जाता है। वैदिक परंपरा के अनुसार श्री दरबार साहिब प्रवास के दौरान उनके द्वारा विशेष पूजन, ध्यान व वैदिक परंपराओं का निर्वहन किया गया। अपने प्रवास के दौरान उन्होंने आचार्य श्री चंद्र जी भगवान व श्री गुरु राम राय महाराज की विशेष पूजा अर्चना अरदास व अनुष्ठान किये, देश में सुख शांति व समृद्धि की कामना की व कोरोना मुक्त देश-दुनिया की कामना करते हुए विशेष पूजन हवन आयोजित किये। कर्मकांड, पूजन, आराधना के अलावा माह में पड़ने वाली विशेष तिथियों पर विशेष धार्मिक अनुष्ठान किये।
उदासीन भेष संरक्षण समिति के अध्यक्ष व श्री दरबार साहिब के श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने कहा कि कुंभ आयोजन के बाद उदासीन समप्रदाय के संतों का पर्दापण श्री दरबार साहिब में होता है, वर्षों से यह परंपरा चली आ रही है। संत परंपरा से ही भारतीय संस्कृति की पहचान है। श्री दरबार साहिब परिवार सौभाग्यशाली है कि उन्हें हर कुंभ आयोजन के बाद साधु-संत-महंतों की सेवा का सौभाग्य प्राप्त होता है। चैमासा प्रवास के दौरान श्री दरबार साहिब में मिले प्रेम-स्नेह-आदर व भक्ति भाव के लिए साधु संतों ने आभार व्यक्त किया व सभी सेवादारों व श्रद्धालुओं की दीर्घायु की कामना करते हुए उन्हें आशीर्वाद दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

Breaking News: जस्टिस फाॅर अंकिताः उग्र भीड़ ने बदरीनाथ हाईवे पर लगाया जाम, देखें EXCLUSIVE वीडियो और PHOTO

अंकिता भंडारी के परिजन फाइनल पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही बेटी के अंतिम संस्कार करने पर अड़े  पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक करने और...

Breaking News: अंकिता के परिजनों ने कहा- पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आने के बाद ही करेंगे बेटी का अंतिम संस्कार

श्रीनगर गढ़वाल। अंकिता भंडारी के पिता ने कहा कि पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आने के बाद ही वह बेटी का अंतिम संस्कार करेंगे। उन्होंने वनत्रा...

Breaking News: राज्य के 7 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी

देहरादून। मौसम विभाग ने राज्य के सात जिलों देहरादून, टिहरी, उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना जताई है। इन...

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा-दरिंदों ने चीला नहर में धकेलने से पहले अंकिता को बुरी तरह मारा-पीटा, शरीर पर मिले चोट के निशान

ऋषिकेश। दरिंदों ने चीला नहर में फेंकन से पहले अंकिता भंडारी को बुरी तरह मारा-पीटा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अंकिता के शरीर पर चोट के...
- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!