Home उत्तराखंड आशु सात्विका गोयल ने बढ़ाया उत्तराखंड का गौरव, प्रतिष्ठित 'राष्ट्रीय प्रगति पुरस्कार'...

आशु सात्विका गोयल ने बढ़ाया उत्तराखंड का गौरव, प्रतिष्ठित ‘राष्ट्रीय प्रगति पुरस्कार’ से सम्मानित

  • ऑल इंडिया बिजनेस डेवलपमेंट एसोसिएशन ने सामाजिक कार्यकर्ता और सांस्कृतिक राजदूत के रूप में आशु की उपलब्धियों के लिए प्रदान किया पुरस्कार

देहरादून/नई दिल्ली। ऑल इंडिया बिजनेस डेवलपमेंट एसोसिएशन ने नई दिल्ली में एक भव्य समारोह में आशु सात्विका गोयल को एक सामाजिक कार्यकर्ता और भारत के सांस्कृतिक राजदूत के रूप में उनकी उपलब्धियों के लिए  “राष्ट्रीय प्रगति पुरस्कार” व पदक से सम्मानित किया। उन्हें पूर्व राजदूत वी.बी.सोनी, मेवाड़ विश्वविद्यालय के कुलपति के.एस.राणा, उत्तराखंड कांग्रेस के उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप, डॉ जितेंद्र सिंह शुंटी (पदमश्री पुरस्कार विजेता, शहीद भगत सिंह सेवा दल, एसबीएस फाउंडेशन के अध्यक्ष), प्रो एस.एस भाकरी,  हरिपाल रावत अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी असम के संयुक्त सचिव, पीसी नेलवाल (पूर्व उपाध्यक्ष उत्तराखंड प्रवासी समन्वय और कल्याण सलाहकार समिति) ने पुरस्कार प्रदान किया।
आशु सात्विका गोयल  का जन्म देहरादून में शिक्षाविदों और प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ताओं के परिवार में हुआ। इनके पिता विजय कुमार गोयल इंजीनियर और माता किरन उल्फत गोयल शिक्षाविद, सामाजिक, कार्यकर्ता और संगीतकार हैं। इन्होंने IIPM से MBA और गढ़वाल यूनिवर्सिटी से M. Com किया है। इन्होंने गोल्ड मेडलिस्ट के रूप में एमबीए की डिग्री पास की और एकेडमिक गोल्ड स्टूडेंट होल्डर का पद भी प्राप्त किया।
आशु सात्विका गोयल  प्रशिक्षित कथक (भारतीय शास्त्रीय नृत्य) कलाकार हैं और इन्होंने मणिपुरी नृत्य (पूर्वी भारतीय शास्त्रीय नृत्य), हिप-हॉप, बॉलीवुड, जैज़, समकालीन, अर्ध-शास्त्रीय और एफ्रो जैज़ नृत्य रूपों में कुछ पाठ्यक्रम भी किए हैं। अपनी किशोरावस्था में, इन्होंने इंग्लैंड, जापान, फ्रांस, जर्मनी, स्वीडन, हॉलैंड, भारत, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में अपने नृत्य प्रदर्शन की प्रस्तुति भी दी है । राष्ट्रीय ही नहीं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी इन्होने भारत का प्रतिनिधित्व किया है ।
आशु सात्विका गोयल एक सामाजिक कार्यकर्ता, सांस्कृतिक राजदूत, कलात्मक प्रशिक्षक, अभिनेता और मॉडल हैं। वह रंग हिमालय (विविधता और पृथ्वी फेलोशिप का जश्न मनाने के लिए त्योहार) की सह-संस्थापक और एक नई सभ्यता बनाने वाले वैश्विक युवा नेटवर्क की सदस्य हैं। उन्होंने वैश्विक मुद्दों पर बचपन से ही कई अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों और बैठकों में भाग लिया है, व राष्ट्रीय चित्रकार पुरस्कार विजेता भी हैं।
इनके नाना-नानी प्रो. लेख राज उल्फत और एच. साधना उल्फत नन्ही दुनिया (द इंटरनेशनल मूवमेंट ऑफ चिल्ड्रन एंड देयर फ्रेंड्स) के संस्थापक हैं, जिसकी स्थापना 1946 में हुई थी, जो बाल, युवा और महिला कल्याण के क्षेत्र में काम कर रही है। इन्हें 2018 में राष्ट्रीय आर्थिक और सामाजिक विकास और अखिल भारतीय व्यापार विकास संघ द्वारा सामाजिक कार्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार “भारत विकास रतन” से सम्मानित किया गया था।

ACHIEVEMENTS:
र्राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल, शिखर सम्मेलन, सम्मेलन
• 1996- राष्ट्रीय बाल चित्रकला प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए “भारतीय बाल कल्याण परिषद” द्वारा सम्मानित किया गया।
• 1996 उत्तराखंड के प्रथम मुख्यमंत्री नित्य नंद स्वामी से राष्ट्रीय छात्रवृत्ति प्राप्त की।
• उत्तराखंड के प्रथम राज्यपाल सुरजीत सिंह बरनाला द्वारा ग्रीटिंग कार्ड का उद्घाटन किया गया।
• 2002- बच्चों के पृथ्वी शिखर सम्मेलन 2002, दक्षिण अफ्रीका में भाग ले भारत का प्रतिनिधित्व किया।
• 2004-माइकल हॉल स्टाइनर वोल्ड्रेफ स्कूल इंग्लैंड से प्रख्यात चित्रकार रोबोट के तहत कला के पर (रोमांटिक हिस्ट्री ऑफ़ आर्ट) पर परियोजना को पूरा किया।
• 2006- में ब्राजील में “युवाओं के लिए कनेक्टिविटी शिखर सम्मेलन” में मुख्य वक्ता के रूप में भाग लिया।
• 2006- में जापान में “गोई पीस फाउंडेशन द्वारा यूनेस्को द्वारा वित्त पोषित सम्मेलन” “हाउ टू क्रिएट ए न्यू सिविलाइज़ेशन” में भाग लिया।
• 2006 से 2009 तक दो पीस फाउंडेशन जापान और यूनेस्को द्वारा युवा लोगों के लिए अंतरराष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता में भारत का नाम रोशन किया।
• 2010- में एडवांस ग्लोबल मैनेजमेंट प्रोग्राम के लिए मकुम्ब स्कूल ऑफ बिजनेस ऑस्टिन, टेक्सास (यू.एस.ए) द्वारा प्रमाणित डिग्री प्राप्त की।
• 2011- राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर वाद-विवाद प्रतियोगिता/पोस्टर सत्र के लिए ओएनजीसी और उत्तराखंड राज्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद द्वारा प्रमाणित।
• 2009-2011 के लिए एमबीए में अकादमिक स्वर्ण से सम्मानित।
• 2012 -मिस उत्तराखंड प्रतियोगिता 2012 की मिस टैलेंटेड और मिस फोटोजेनिक के रूप में प्रमाणित।
• 2013- गोई पीस फाउंडेशन जापान और यूनेस्को द्वारा “युवा लोगों के लिए अंतर्राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता” में भाग लेने के लिए appreciation certificate प्राप्त किया ।
• 2013 -नवदान्य कृषि-पारिस्थितिकी और जैव विविधता संरक्षण केंद्र गांधी और पृथ्वी लोकतंत्र के वैश्वीकरण द्वारा सर्टिफिकेट प्राप्त किया ।
• 2013- “रंग हिमालय” के सह-संस्थापक, विविधता का जश्न मनाने के लिए एक त्योहार और फेलोशिप को पृथ्वी पर 2013 में स्थापित किया गया और तब से यह हर साल प्रतिवर्ष मनाया जाता है। इसका उद्देश्य लोगों को रचनात्मक प्रयासों में शामिल करके उन्हें सशक्त बनाना है जो उनकी सामाजिक, सांस्कृतिक और पर्यावरण जागरूकता को व्यापक बनाएंगे।
• आलोक उल्फत 2014 द्वारा निर्देशित ‘पानी आया गोवा में’ के निर्माण के लिए कोरियोग्राफर।
• 2014 में “रक्त प्रवाह” (छठे वार्षिक सम्मेलन) “ब्लड ट्रांसफ्यूजन इन क्लिनिकल प्रैक्टिस” के लिए चैरिटी फैशन शो कोरियोग्राफिंग के लिए आईएमए ब्लड बैंक ऑफ उत्तराखंड द्वारा प्रमाणित।
• 2015 में आलोक उल्फत द्वारा निर्देशित एक थिएटर प्रोडक्शन “इफ यू आर ग्लैड, आई विल बी फ्रैंक” के लिए कोरियोग्राफर और कॉस्ट्यूम डिजाइनर।
• 2016 में यूनाइटेड किंगडम स्थित फैशन पत्रिका HUF में एक फैशन मॉडल के रूप में प्रदर्शित हुई ।
• 2016- आर-स्ट्रीट, नशा-निरोधक अभियान, और सार्वजनिक स्थलों की बहाली अभियान के तहत स्वेच्छा से किए गए युवा वर्ग के तहत पूर्व माननीय मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत द्वारा प्रशंसा पत्र।
• 2016 में ब्रेक किड्स पोलैंड में स्वयं सेवक के रूप में कार्य किया वह अनुभव प्राप्त किया
• 2017- 18/07/17- 2/08/17 तक थाईलैंड में आंतरिक सामाजिक वैश्विक परिवर्तन के लिए उभरते और रचनात्मक नेतृत्व को प्रेरित करने के लिए कलर्स 2017 के लिए भागीदारी कि जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोगों ने भाग लिया जिसका विषय था “पीपल प्लैनेट पार्टिसिपेशन”
• राष्ट्रीय आर्थिक और सामाजिक विकास और अखिल भारतीय व्यापार विकास संघ द्वारा 2018 में सामाजिक कार्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार “भारत विकास रतन” से सम्मानित किया गया ।
• 2018- ब्रेव किड्स यूक्रेन और पोलैंड द्वारा भारत के बाल कलाकारों के समूह के नेता होने के लिए प्रमाणित किया जिन्होंने ब्रेव किड्स सांस्कृतिक और शैक्षिक कार्यक्रम में देश का प्रतिनिधित्व किया, जो यूनेस्को और पोलिश संस्कृति और विरासत मंत्रालय के संरक्षण में होता है।
• 2019- ब्रेव किड्स पोलैंड में कलात्मक प्रशिक्षक (एक सांस्कृतिक और शैक्षिक कार्यक्रम जो यूनेस्को और संस्कृति और विरासत के पोलिश मंत्रालय के संरक्षण में है।
• 2019-20 सतत विकास के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यक्ति योजना में भाग लेने के लिए युवाओं को बढ़ावा देने की मान्यता के लिए गोई पीस फाउंडेशन द्वारा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया
• 2019- मिलन सोमन’ द्वारा यंग सोशल एक्टिविस्ट के रूप में ‘फेस ऑफ देहरादून 2019’ की उपाधि से सम्मानित किया गया।
• 2019- अमर उजाला समाचार पत्र द्वारा स्टार प्लस टीवी चैनल के सहयोग से “अनोखी” के रूप में सम्मानित की गई।

HONOUR
• Facilitated by Vice President of India Venkaiah Naidu for being a Cultural representative for two consecutive years 2018 & 2019 as part of Brave kids Nanhi Dunya Project.
• Facilitated by Lieutenant Governor of Delhi Mr. Anil Baijal in 2019 as Cultural ambassador of India.
• Appreciation certification by Speaker of Uttarakhand Prem Chand Agarwal for being a Cultural Ambassador of India in the year 2019.
• Letter of appreciation by Education Minister of Uttarakhand Arvind Pandey for representing Indian culture in Brave kids Poland & Ukraine as a group leader in 2018.
• Letter of appreciation by cabinet minister of Uttarakhand Madan Koshik for representing Indian culture in Brave kids Poland & Ukraine as a group leader.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

हरक सिंह दिल्ली रवाना, हलचल तेज

देहरादून। विधानसभा चुनाव अभियान समिति के गठन को लेकर भाजपा में हलचल बढ़ गई है। कैबिनेट मंत्री डा. हरक सिंह रावत शनिवार की सुबह...

जम्मू में शहीद उत्तराखंड के दोनों जवानों के पार्थिव शरीर जौलीग्रांट एयरपोर्ट लाए गए

देहराूदन। जम्मू के पूंछ में आतंकवादियों से हुई मुठभेड़ में शहीद 17 गढ़वाल राइफल के दोनों जवानों, राइफलमैन विक्रम सिंह नेगी और राइफलमैन योगंबर...

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की समस्याओं के समाधान के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे: धामी

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में आंगनवाड़ी की प्रदेश अध्यक्षा रेखा नेगी, महामंत्री सुमति थपलियाल एवं मीनाक्षी रावत ने...

आरोहणम The Rising Society ने उठाई गरीब परिवारों की बच्चियों की पढ़ाई-लिखाई की जिम्मेदारी

देहरादून। सामाजिक संस्था, आरोहणम The Rising Society ने गरीब परिवारों की बच्चियों की पढ़ाई-लिखाई की जिम्मेदारी उठाकर समाज में एक नई मिसाल पेश की...
- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!